App Store Optimization क्या है? ASO क्या है?

0
App-Store-Optimization-kya-hai

स्वागत है दोस्तों आज की इस पोस्ट हम में जानेंगे App Store Optimization kya hai आखिर मोबाइल एप्लीकेशन का ऑप्टिमाइजेशन कैसे किया जाता है आज के समय में app store  पर करोड़ों अरबों एप्लीकेशन मौजूद है. 

अगर आप एक एंड्रॉयड एप डेवलपर हो और आपको अपनी एप्लीकेशन को ऐप स्टोर पर rank करवाना है तो आज की आर्टिकल आपके लिए  काफी मददगार साबित होने वाली है. 

अपने एप्लीकेशन को लोगों तक पहुंचाना बहुत बड़ा काम होता है क्योंकि एप स्टोर पर बहुत सारी एप्लीकेशन मौजूद है जिसमें हमारा एप्लीकेशन किसी Keyword को सर्च करने पर कई बार सर्च रैंक में टॉप पर दिखाई नहीं देता है जिसके लिए हमें ऐप स्टोर  ऑप्टिमाइजेशन करना बहुत जरूरी है तो आइए देखते हैं इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

App Store Optimization क्या है?

जिस तरह गूगल सर्च इंजन पर वेबसाइट को रैंक करने के लिए search engine optimization (SEO) का उपयोग किया जाता है ठीक उसी तरह यदि आपको कोई मोबाइल एप्लीकेशन ऐप स्टोर पर रैंक करवानी है तब हम App Store Optimization (ASO) करते हैं.

App Store optimisation एक ऑर्गेनिक रैंकिंग है जो तीनो platform यानी कि एंड्रॉयड , विंडोज स्टोर और iOS एप स्टोर के लिए कर सकते हैं. 

अपने mobile application को इस तरह से ऑप्टिमाइज करें ताकि टारगेट ऑडियंस तक आपकी एप्लीकेशन एप स्टोर सर्च रिजल्ट पर visible हो सके इसे ही एप स्टोर ऑप्टिमाइजेशन कहा जाता है.

उदाहरण के लिए मान लीजिए, आपने एक गेमिंग एप बनाया अब आपको इस ऐप को ऐप स्टोर पर प्रोमोट करवाना है यानी कि अगर कोई यूजर एप स्टोर पर सर्च करता है तो आपकी गेम टॉप  पर रैंक करनी चाहिए जिसके लिए आपको उस गेम का ऑप्टिमाइजेशन करना होगा।

Rank करने के लिए 6 जरूरी Factors

  • Title

ऐप स्टोर पर आपके गेम या एप्लीकेशन का टाइटल इस तरह रखना है कि जिसमें आपका keyword आना बेहद जरूरी है क्योंकि इससे आप अपने एप्लीकेशन को प्ले स्टोर पर सबसे ऊपर रैंक करवा सकते हो जिसके लिए आपको कीवर्ड रिसर्च प्रोसेस को फॉलो करना होगा।

  • Description

यह दूसरा सबसे इंपोर्टेंट पार्ट है जहां पर आपको अपने एप्लीकेशन या गेम से जुड़ी जानकारी लोगों को देनी होती है और साथी इसमें आपका कीवर्ड कम से कम चार या पांच बार आना चाहिए हमेशा अपना डिस्क्रिप्शन इस तरह लिखे कि लोगों को समझ में आए कि आपकी एप्लीकेशन किस के लिए बनी है और साथ ही डिस्क्रिप्शन में keyword  लिखते वक्त कीवर्ड की stuffing नहीं करनी है

जब कोई यूजर एप्लीकेशन के नीचे Read More  बटन पर क्लिक करता है तब उसे वह डिस्क्रिप्शन बॉक्स दिखाई देता है जो कि कम से कम 4000 शब्द  का होता है आपको भी अपना डिस्क्रिप्शन कम से कम 3000 वर्ड का लिखना होगा।

  • Screenshot or thumbnail

एक बार कोई यूजर आपके keyword को सर्च करके आपके Landing Page पर आता है तब उसे आपकी एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए सबसे ज्यादा प्रेरित application के thumbnail या screenshot ही करते है. 

इसलिए आपको आपकी स्क्रीनशॉट्स याने की एप्लीकेशन या गेम के  बारे में इंफोग्राफिक्स बनाकर स्लाइडर में इमेज दिखाना है ताकि यूजर समझ सके कि आखिर यह गेम जब रन होगी तब किस  तरह काम करेगी स्क्रीनशॉट की मदद से यूजर्स आसानी से पता लगा लेते  हैं कि इस एप्लीकेशन का यूजर इंटरफेस कैसा होने वाला है.

>> क्या आप जानते है : Google Sandbox और Honeymoon effect क्या होता हैं ?

  • Review and ratings

दोस्तों आपकी एप्लीकेशन की रेटिंग और रिव्यू की मदद से हम अपने यूजर्स को बताते हैं कि किस तरह से हमारे एप्लीकेशन आपके लिए उपयुक्त है. 

Reviews चाहे पॉजिटिव हो या नेगेटिव दोनों को ही अपने एप्लीकेशन को डिवेलप करने के लिए इस्तेमाल करना चाहिए नेगेटिव रिव्यू को आप एक अपॉर्चुनिटी की तरह सोच सकते हैं जिसमें आप यूजर का फीडबैक लेकर अपनी एप्लीकेशन को और भी बेहतर  कर सकते हैं आपकी एप्लीकेशन में रेटिंग सिस्टम पॉपअप बनाए ताकि यूजर्स आपकी एप्लीकेशन को रेटिंग दे सके रेटिंग Google Algorithm  के लिए काफी मायने रखती है जिससे आपकी एप्लीकेशन के रैंकिंग निश्चित  होती है.

  • Number of Downloads

जिस तरह आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक लेकर आना यह SEO का सबसे बड़ा उद्देश्य होता है उसी तरह एप स्टोर ऑप्टिमाइजेशन का उद्देश्य होता है कि ज्यादा से ज्यादा आपकी एप्लीकेशन को डाउनलोड करवाना।

आपकी एप्लीकेशन को जितने ज्यादा से ज्यादा लोग डाउनलोड करेंगे उसकी रैंकिंग उतनी ही ज्यादा बढ़ती चली जाएगी

  • Keywords

यह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन या ऐप स्टोर ऑप्टिमाइजेशन दोनों में ही बहुत जरूरी पार्ट  होता है जिसके लिए आपको कीवर्ड  के कितने प्रकार होते हैं पता होना चाहिए और साथ ही कीवर्ड किसे कहते हैं यह भी पता होना चाहिए।

keyword वे शब्द होते हैं जिससे यूजर एप स्टोर सर्च बॉक्स में टाइप करके आपके एप्लीकेशन तक पहुंचता है.

यहाँ तक आप समज गए होंगे की app store optimization kya hai अब आगे

ASO और SEO में क्या अंतर है

1 Full form

Aso का मतलब होता है एप स्टोर ऑप्टिमाइजेशन

Seo का फुल फॉर्म है Search engine optimisation

2 Search engine

Aso – मैं हम मोबाइल एप स्टोर पर रैंक करवाते हैं जैसे कि Apple app store, Google Play Store,windows store etc.

Seo – पर हम अपने ब्लॉक या वेबसाइट को सर्च इंजन के लिए रैंक करते हैं eg Google search, Bing, Yahoo

3 on Page

Aso – के लिए हमें अपने ऐप टाइटल डिस्क्रिप्शन कीवर्ड और ऐप का अनइनस्टॉल रेट इत्यादि मैट्रिक्स आपकी एप्लीकेशन के लिए होती है

Seo – अपनी वेबसाइट के लिए कई सारे फैक्टर देखते हैं जैसे की पोस्ट टाइटल हैडिंग कीवर्ड की डेंसिटी पेज  स्पीड बाउंसर रेट और जैसी कई सारी अन्य जरूरी बातें

>> क्या आप जानते है : PPC kya hai ? Pay Per Click की संपूर्ण जानकारी

4 Goal

Aso – का मुख्य उद्देश्य होता है कि एप स्टोर से ज्यादा से ज्यादा अपनी एप्लीकेशन या गेम को डाउनलोड करवाना

Seo – का मेन उद्देश्य होता है अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफिक लेकर आना या अपने सेल्स को बढ़ाना

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूं आपको आज की यह app store optimization kya hai  जानकारी काफी पसंद आई होगी हमने पूरी कोशिश की आपको समझाने की एप्लीकेशन का ऑप्टिमाइजेशन किस तरह किया जाता है.

वैसे तो इसमें और भी कई सारी बातें आती है लेकिन आज के लिए इतना ही अगर आपको इस तरह की जानकारी और जानना है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं और इस आर्टिकल से जुड़ी कोई जरूरी बात बतानी हो तो हमें कमेंट जरूर करें और अपने दोस्तों के साथ इस आर्टिकल को साझा जरूर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here