Koo App क्या है और इसका Founder कौन है?

0
Koo app kya hai in hindi

आज कल Koo App बहुत फेमस होते जा रहा है. और हो भी क्यों ना क्योंकि हम लोग नई-नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करने लगे है. और यदि बात करे सोशिअल मीडिया की तो हम लोग बहुत एक्टिव रहते है।  

हमारे इंडिया में या वर्ल्ड में कुछ भी अच्छा या बुरा होता है। तो हम लोग सोशिअल मीडिया ट्रेंड चलाते है। है ना?

आज हम ऐसे ही एक सोशिअल  मीडिया प्लेटफार्म जो की खुद हमारे भारत में बना है. कू ऐप के बारे में जानने वाले है दोस्तों में यकीन दिलाता हु की यह आर्टिकल पढ़ने के बाद आप के सारे कू ऐप से संबंधित Doubts क्लियर हो जायेंगे।     

Koo App क्या है?

Koo App यह एक माइक्रोब्लॉगिंग ऐप है जो की पूरी तरह से मेड इन इंडिया है. जिसे साल  2020 में बनाया गया था जो हिंदी, तमिल, तेलुगू , मराठी, अंग्रेजी  और कन्नड़ जैसी भारत की अन्य भाषाओं में उपलब्ध है. यह ऐप  आने वाले समय में और भी कई सारी  भाषाओं में उपलब्ध होगा.   

Koo App का इतिहास

कोरोना काल ( दोस्तों में इस वर्ड को लिखना तो नहीं चाहताथा पर क्या करे मुझे मजबूरन लिखना पड़ा ) यही वह समय था जब हम सबने बहूत कुछ खोया और नई चीजें सीखी. 

कोरोना काल के बाद भारत में आत्मनिर्भर अभियान तेज़ी  से बढ़ते जा रहा था. उसी समय मार्च के माह में दो उद्यमियों ने अपनी टीम के साथ मिलकर यह ऍप  बनाया था हालांकि उस समय यह इतना फेमस नहीं हुआ.

और वही चायनीज Apps को श्री नरेंद्र मोदी द्वारा बैन करने के बाद आत्मनिर्भर चैलेंज चलाया गया जिसके चलते भारत में chinese app की अल्टरनेटिव apps बनने लगी.  

Koo App का Founder कौन है?

Desi twitter alternative कहे जाने वाले Koo app को दो लोगों द्वारा बनाया गया है जिनमें से एक का नाम Mr Prameya Radhakrishna और दूसरे का नाम Mr Mayank Bidawatka है. 

Koo app founders

Prameya Radhakrishna द्वारा TaxiForSure नाम की ऑनलाइन टैक्सी सेवा पोर्टल की शुरुआत भी की जिसे बाद में Ola Cabs को बेच दिया गया.

क्या Koo App Chinese है?

नहीं, कू ऍप पर हम ट्विटर जैसे माइक्रो ब्लॉग यानिकी 400 करैक्टर का टेक्स्ट (Koo) करते है. Koo App की पैरेंट कंपनी बोम्बिनेट टेक्नोलॉजीज है. जिसके अंतर्गत इंडियन क़्वारा कहे जाने वाले ऍप वोकल और कू ऍप आते है. 

शुरुआत के दौर में बोम्बिनेट टेक्नोलॉजीज के पास चायनीज इन्वेस्टर जिनका नाम शुनवई है उन्होंने पैसे लगाए थे. जिसका जिक्र खुद कू के फाउंडर ने एक इंटरव्यू में किया था. मगर अब शुनवई को कंपनी के शेयर में से बाहर कर दिया है और कू ऍप पूरी तरह से Indian app है.  

Made in India App कौन-कौन से है?

Atmanirbhar app  या यु कहु के मेड इन इंडिया ऍप यह सारे देसी अल्टरनेटिव ऍप जो चाइनीज ऐप के  ban के बाद बनाए गए.

जैसेकि, Best Desi Alternative App है

विदेशी Appदेशी App
Helo AppSharechat
WhatsAppSandesh App
TwitterKoo App
TiktokChingari App
InstagramElements App

Koo App Download कैसे करे?

Koo app को या तो मोबाइल में या पीसी दोनों में चला सकते है अगर आपके पास Iphone है तो भी कोई दिक्कत नहीं नीचे आपको सारी विधि मिलेगी डाउनलोड करने की

Koo app download kaise kare
  1. Play Store :  हम सभी के पास Android Mobile होगा कू को एंड्राइड मोबाइल में  डाउनलोड करने के लिए  मोबाइल के प्ले स्टोर पर जाना होगा और Search Box में  कू  लिखे आपको फर्स्ट रिजल्ट में ही ऍप मिलेगा उसे तुरंत इनस्टॉल करले.
  1. App Store : यदि आप Iphone यूजर हो तो Apple के app store में जाकर koo app search करे उसके बाद इनस्टॉल करले.
  2. Official Website : गूगल में Koo app की Official Website से  www.kooapp.com Download कर सकते है. 
  3. Online Use :  यदि आपके पास SmartPhone नहीं है तो भी आप कू चला सकते है.

           Koo Web search करे आप को सिर्फ मोबाइल नंबर या Email Id डाल कर कू चला सकते है.

Koo में Login कैसे करे?

दूसरे एप्लीकेशन की तरह कू को लॉगिन करना बिल्कुल आसान है.आपके पास बस एक मोबाइल नंबर होना आवश्यक है.अगर मोबाइल नंबर नहीं है तो कोई समस्या नहीं आप अपनी ईमेल आयडी से भी लॉगिन कर सकते है। 

  1. कू को इनस्टॉल करने के बाद जब आप फर्स्ट टाइम ओपन  करते हो, आप को अपनी पसंदीदा भाषा चुनने का विकल्प मिलता है.
  2. आप अपने हिसाब से कोई भी भाषा चुन सकते है, जैसे की Hindi, Marathi, Telegu, Kannada, Guajarati, Tamil इत्यादि.
  3. अब आपको अपना मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी डालना होगा जिसपे OTP जाएगा.
  4. ध्यान रहे OTP  कुछ समय के लिए ही वैलिड रहता है.
  5.  OTP  वेरीफाई करने के  बाद आप तुरंत लॉगिन हो जाएंगे.
  6. अब आप अपनी Profile Create कर सकते है.

Koo App पर Post कैसे करें?

कू पर पोस्ट करना बहुत आसान है.पहले आपको +koo  बटन को प्रेस करना है, उसके बाद नया विंडो ओपन होगा जिसमे अपने विचार या आइडिया या Video, Images, GIF, Blog links और Voice Records इत्यादि भेज सकते है.

साथ ही पोस्ट की Reach या Engagement  बढ़ाने के लिए # Hashtag और @ किसी को मेंशन करने के लिए यूज करते है.

जिस तरह हम ट्विटर पर tweet करते है,वैसे ही कू पर koo किया जाता है.आप किसिके कू को Re-Koo या Re-koo with Comment भी कर सकते है.

Koo App में Yellow Verification Tick कैसे पाएं?

कू पर वेरीफाई बैज पाना बहुत आसान है.यदि आपने प्रोफाइल बना ली है तो यहाँ आप को आज सारी  परेशानी का हल मिल जाएगा. 

How to Get Yellow verification tick mark on Koo app

स्टेप 1 : अपनी प्रोफ़ाइल पर जाए और टॉप लेफ्ट साइड में क्लिक करे उसके बाद 

स्टेप 2 : आपकी प्रोफाइल ओपन होगी जिसमे आपको टॉप राइट साइड में सेटिंग वाले आइकॉन पे क्लिक करना होगा.  

स्टेप 3 : अब Account Section में Apply for a Verified Account ऑप्शन मिलेगा उसपर क्लिक करे. 

स्टेप 4 : उसके बाद आप कू ऍप के ऑफिशियल गूगल Verified User Application Form मिलेगा

स्टेप 5 : अपनी सारि Details जैसेकि Email Address, full name, your profession, koo handle, registered koo mobile number डालना है और  Next बटन दबाना है. 

स्टेप 6: Confirm Button दबाना है.  

याद रहे आप सिर्फ एक ही  बार  यह गूगल फॉर्म भर सकते है. दूसरी बार आपको कू ऍप की ऑफिशियल मेल ID पर मेल भेजना होगा. 

Koo के Features (Koo App Features)

वैसे तो कू ऍप के कई सारे फीचर्स है पर आज हम मुख्य पॉइंट्स पर बात करने वाले है. जो आपको नीचे लिस्ट के माध्यम से समझाए गए है.

  • ट्विटर पर हमें जैसे 280 कैरेक्टर की लिखने की सीमा होती है वैसे ही कू पर हम  मोबाइल में 400 तो वेबसाइट पर 350 कैरेक्टर तक लिख सकते है।   
  • ट्विटर पर हमें ट्वीट करने के लिए ब्लू कलर के ट्वीट बटन पर क्लिक करना होता है, वैसे ही कू करने के लिए हम येलो कलर के प्लस वाले बटन पर क्लिक करते है. 
  • कू ऍप की सबसे खास बात यह है की यह कई सारी भारतीय भाषाओं में उपलब्ध  है  जेसे , Hindi , Tamil, Telugu, Kannada और Marathi इत्यादि .
  • आप चाहे तो अपनी पोस्ट को फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर कर सकते है.
  • ट्विटर की तरह ही  हम koo पर Trending Topic को देख सकते है.
  • आप video, photos, text, gif, links, emoji और voice message भी शेयर कर सकते हैं.  
  • इसमें आप Poll भी चला सकते है. 
  • अपने दोस्तों को  DM (डायरेक्ट मैसेज) कर सकते है. 
  • कू पर आपको दूसरे सोशियल मीडिया प्रोफाइलों की  तरह yellow tick verified account मिलता है, जिससे की Fake Accounts को आसानी से पहचान सकते है.  
  • पोस्ट पे कमेंट रेस्ट्रिक कर सकते है.

और आगे भी नए नए अपडेट आते रहेंगे इसमें ……

Conclusion

चलो फायनली यह पोस्ट तो आपने पड़लिया.में उम्मीद करता हु की मेरी इस Koo app kya hai और Koo app ka founder कौन है से रिलेटेड सारि जानकारी इस पोस्ट में मिली हो यदि हमसे कुछ जानकारी मिस हो गयी हो या कुछ सुझाव देना हो तो कमेंट करके जरूर बताये. 

इस ब्लॉग पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ साझा करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग हमारे देसी एप्स के बारे मे जानकारी ले सके. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here