Web Hosting क्या है और ये कितने प्रकार की होती है?

0
website hosting kya hai

आपने कई बार अपने दोस्तों से कहते हुए सुना होगा मुझे website बनानी है लेकिन क्या आपको पता है domain name क्या है और website hosting kya hai क्या सिर्फ इन्हीं दो चीजों से वेबसाइट बनती है या फिर और भी किसी की जरूरत पड़ती है.

आज के इस पोस्ट में हम website hosting kya hai और कितने प्रकार की होती है इसके फायदे एवं नुकसान के बारे में डिटेल में जानेंगे इसलिए यह आर्टिकल पूरी पढ़ें क्योंकि यदि आप new website  बनाना चाहते हो और आपको website hosting के बारे में पता नहीं है तो यह आर्टिकल आपको काफी फायदेमंद साबित होगी.

जिस तरह हमें अच्छा मकान बनाना हो तो हम सबसे पहले उसके बेस (base) के बारे में सोचते हैं ठीक वैसे ही हर अच्छी वेबसाइट के पीछे बेस यानी कि वेब होस्टिंग web hosting का हाथ होता है.

Web Hosting क्या होती है?

website hosting kya hai है अगर simple भाषा में कहे तो यह एक आपकी वेबसाइट का आधार (base) होता है जिस पर आपकी वेबसाइट host (मेजबान) होती है जहां से आप अपने वेबसाइट को manage कर सकते हो जैसे की वेबसाइट में डाटा upload एवं delete करना

आप अपने local computer मैं वेबसाइट बनाकर उसका डाटा जैसे कि files, photos, videos और documents इत्यादि स्टोर कर रखते हो लेकिन यह सिर्फ आपके ही सिस्टम पर स्टोर होते हैं अगर कोई internet से आपकी वेबसाइट को एक्सेस करना चाहेगा तो वह एक्सेस नहीं कर पाएगा क्योंकि यह सिर्फ आपके कंप्यूटर पर उपस्थित है.

इसलिए हमें वेब होस्टिंग की जरूरत पड़ती है ताकि हम अपना डाटा web server पर रखकर उसे इंटरनेट यूजर्स के लिए 24 घंटे उपलब्ध करवाएं यही सेवा कुछ निजी कंपनियां प्रदान करती है जिसे हम web hosting service कहते हैं जो रिटर्न में आपसे कुछ पैसे चार्ज करती है.

Web Hosting के प्रकार

नीचे हमने वेब होस्टिंग के टाइप्स के बारे में बताया है और साथ ही उनके फायदे एवं नुकसान जिसे आपको जानना बेहद जरूरी है यदि आप न्यू वेबसाइट बना रहे हो या फिर आप दूसरी वेब होस्टिंग plan को खरीदने के बारे में सोच रहे हो

Shared Hosting

Shared hosting मैं बहुत सारी वेबसाइट एक ही सरवर यानी कि same server पर होस्ट रहती है जिससे आपकी वेबसाइट की  स्पीड और परफॉर्मेंस पर असर पड़सकता  है

आप अपने resources को अन्य वेबसाइट होस्टिंग के साथ शेयर करते हो जैसे कि Ram (random access memory), CPU (central processing unit), storage, bandwidth जो की limited to X MB per second होता है 

कई सारे रिसोर्स और फैसिलिटी को अन्य वेबसाइट होस्टिंग के साथ शेयर करनी होती है और इस वजह से  यह सब से low price में मिल जाती है जो कि बहुत ही पॉपुलर शेयर होस्टिंग कहलाती है

अक्सर इस प्रकार की होस्टिंग small business website, personal blog, affiliate website और startup company जैसे लोगों के लिए अच्छा ऑप्शन होता है

इस तरह की शेयर होस्टिंग में बहुत सारे ऐडऑन सर्विसेज होते हैं eg. free domain name, free SSL, certificate integrated website builder, security and anti malware scans user friendly control panel (cpanel) और auto backup

  Advantage

   Affordable इसे आसानी से खरीद सकते हैं प्लान 250Rs /month

   आपको ज्यादा technical knowledge की जरूरत नहीं होती है

   इसमें pre configured Server होते हैं 

 Disadvantages

   Limited storage space मिलता है

   Bandwidth limit एक फिक्स डेटा के साथ चलना पड़ता है

   Site performance स्पीड के साथ कंप्रोमाइज करना पड़ेगा

Price range: 250 Rs./month 

Best for:  personal blog, small business, new startup

VPS hosting

वीपीएस होस्टिंग का मतलब वर्चुअल प्राइवेट होस्टिंग होता है यहाँ आपको एक Virtual और Private  सर्विस मिलती है जिससे शेयर्ड होस्टिंग के मुकाबले कुछ अच्छे फीचर्स देखने को मिलते हैं

इसमें भी आप अपने सर्वर को दूसरे वेबसाइट ओनर के साथ शेयर करते हो लेकिन आपकी वेबसाइट अलग-अलग जगह पर होस्ट रहती है

आपको Private  रिसोर्सेज  मिलते हैं जो आप किसी के साथ शेयर नहीं करते जैसे कि RAM, CPU, bandwidth etc

Virtual आपके पास अपना खुद का सरवर नहीं होता है लेकिन आपका सरवर मेन सरवर से अलग करके बनाया जाता है जो सिर्फ आपके लिए होता है

इसे एक उदाहरण के साथ समझते हैं मान लीजिए किसी बड़ी बिल्डिंग में आपने एक फ्लैट खरीद रखा है आप जो चाहें वह अपने फ्लैट के साथ कर सकते हैं लेकिन बिल्डिंग को कुछ नहीं कर सकते

Advantage

  Dedicated server space मिलता है 

  Multiple software install कर सकते है  

  Better speed then shared hosting

Disadvantages

  आपको  technical knowledge पता होना  चाहिए इसे  handle करने के लिए 

  Server performance controlling आपको खुद देखना होता है 

Price range: 285 Rs./month (hostinger.com) 

Best for : medium size business , medium heavy website

Dedicated hosting

जैसे कि आपको नाम से ही पता पता चल गया होगा डेडिकेटेड होस्टिंग केवल आपकी वेबसाइट के लिए वेब सर्वर उपलब्ध कराए जाते हैं जिसे हम किसी अन्य वेबसाइट ओनर के साथ शेयर नहीं करते

इस तरह की होस्टिंग आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड को कई गुना बढ़ा देती है यदि आप कोई बड़ी ई-कॉमर्स वेबसाइट जैसे Flipkart, Amazon, Myntra etc जैसे वेबसाइट बनाना चाहते हो या अपनी वेबसाइट में पर डे में 10,000 से भी ज्यादा ट्रैफिक आते हो तो इस होस्टिंग को जरूर लेना चाहिए

हालांकि यह hosting अन्य होस्टिंग के मुकाबले काफी महंगी रहती है लेकिन आपको कई सारे फीचर्स जैसे कि full administrator control, top level security देखने को मिलती है 

सिंपल भाषा में कहें तो आपने एक पूरी बिल्डिंग ही खरीद ली जिसमे आप जो चाहे वह कर सकते हो किसी के साथ कुछ शेयर करने की जरूरत नहीं

इस तरह की होस्टिंग को यूज करने के लिए आपको बहुत ज्यादा technical knowledge की जरूरत पड़ेगी क्योंकि इसमें आप ऑपरेटिंग सिस्टम इंस्टॉलेशन जरूरत की टूल्स ऐड करना और सिक्योरिटी को maintain करना यह सारा काम आप खुद को ही देखना पड़ता है

Advantages

होस्टिंग सर्वर पर पूरा एक्सेस रहता है

Better privacy and security मिलती है

दूसरे होस्टिंग के मुकाबले वेबसाइट की लोडिंग स्पीड बड़ जाती है

डेडिकेटेड रिसोर्सेज मिलते हैं जैसे स्टोरेज रैम सीपीयू इत्यादि

इसमें आपको  100% uptime मिलता है 

Disadvantages

अन्य वेब होस्टिंग के मुकाबले यह काफी महंगी होती है

इस तरह की होस्टिंग को हैंडल करने के लिए आपको टेक्निकल नॉलेज की जरूरत होती है

भविष्य में कोई प्रॉब्लम आए तो आपको एक टेक्नीशियन की जरूरत पड़ सकती है

Price range: 70-130 dollar/ month

Best for : high traffic website, e-commerce website

Managed hosting

इस तरह की Managed hosting मैं आपको कई सारी मैनेज व्यवस्था देखने को मिलती है जहां पर आपको अपना खुद का सर्वर तो मिल जाता है लेकिन उस पर आपका पूर्ण नियंत्रण नहीं रहता है

यहां पर आपको manage service provider (MSP) मिलते हैं जो अन्य सारी manage hosting ऑफर करते हैं जैसे कि manage cloud hosting, manage VPS hosting, manage shared hosting etc

एक अच्छी खासी होस्टिंग खरीदनी है और आपके के पास टेक्निकल नॉलेज नहीं है जिसके लिए आपको टेक्निकल सपोर्ट भी चाहिए तो इस तरह की होस्टिंग खरीद सकते हो यहां पर आपको एक्स्ट्रा फीस देनी होगी

Manage WordPress hosting

यह managed hosting का ही उप प्रकार है जिससे आपको popular content management system (CMS) जैसे कि wordpress मिलता है जो नए बिजनेस के लिए काफी फायदेमंद होता है

Managed wordpress hosting शेयर होस्टिंग के मुकाबले थोड़ी महंगी होती है लेकिन यहां आपको किसी टेक्निकल नॉलेज की जरूरत नहीं आप यह टेक्निकल सपोर्ट डिपार्टमेंट पे छोड़ दे और अपने काम पर फोकस कर सकते हैं

यहां पर आपको कुछ Built-in features जैसे नीचे दिए गए हैं मिलते हैं

Anti malware scan

Regular plugin updates

Best website performance

Security patches and version update

Data backup

Website loading speed

Advantage

यह affordable होती है 

इसमें आपको ज्यादा टेक्निकल नॉलेज की जरूरत नहीं 

Website की loading speed अछि मिलती है 

Disadvantages

आपको पूरा कंट्रोल नहीं मिलता है

एक टेक्नीशियन की जरूरत पड़ सकती है जिसे एक्स्ट्रा फीस देनी होती है

Price range: 15-60 dollar/ month

Best for : entrepreneur, beginner , small business website

Cloud hosting

Cloud hosting service को VPS का अपग्रेडेड वर्जन मान सकते हैं जो cloud computing technology पर आधारित होता है आजकल काफी फेमस होते जा रहा है और हो भी क्यों ना क्योंकि इसमें आपको कई सारे सर्वस मिलते हैं जो एक साथ मिलकर काम करते हैं जिसे Cluster Server कहा जाता है

इस तरह की hosting service बहुत सारी कंपनियां प्रोवाइड करवाती है जिसे cloud services provider (CSP) कहा जाता है ये hosting किसी भी वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफिक को आसानी से हैंडल कर सकती है और काफी ज्यादा सिक्योर होती है

इसका इस्तेमाल बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां करती है क्योंकि उनके साइट पर प्रतिदिन 1,00,000 से भी ऊपर visitors आते हैं जिसके चलते website crash हो सकती है लेकिन cloud hosting  इसे आसानी से संभाल सकती है और इसलिए यह काफी महंगी होस्टिंग कहलाती है

यहां पर आप अपने रैम, सीपीयू और स्टोरेज जैसी कई सारी सुविधा को आसानी के साथ अपग्रेड कर सकते हो

Advantages

वेबसाइट का परफॉर्मेंस काफी बढ़ जाता है

आपकी वेबसाइट का uptime 100% रहता है

आपकी वेबसाइट पर यदि same time पर 10000 से ऊपर विजिटर्स आते हैं तो भी आपकी साइट अच्छी चलती है बिना क्रश हुए

Website security काफी अछि मिलती है

Disadvantages

Limited customizations यह डिपेंड करता है क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के ऊपर

cloud expertise नॉलेज की जरूरत पड़ती है

बहुत ज्यादा कॉस्टली होते हैं

Price range: यह निर्भर करता है आपके usage के ऊपर

Best for: high traffic website, e commerce Store, web applications etc

Colocation hosting

भारत में यह इतना पॉपुलर नहीं है लेकिन विदेश में इसका काफी इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह बड़ी-बड़ी कंपनियों के लिए बहुत ही secure और comfortable होता है

Colocation hosting मैं आपको एक प्राइवेट सर्वर स्पेस  प्रोवाइड किया जाता है अगर आपके पास अपना खुद का सरवर है तो आप मुफ्त में उसको एक जगह स्टोर कर सकते हैं लेकिन उसके लिए आपको खुद ही मैनेज करना होगा जैसे कि software manage, ip/dns configuration, hardware replacement, storage  management इत्यादि

इसका इस्तेमाल बड़ी कंपनियां best alternative के रूप में करती है जहां पर फिजिकल डाटा स्टोरेज जैसी कई सारी प्रॉब्लम को सॉल्व कर सकती है अगर आप सिर्फ ब्लॉगिंग के उद्देश्य से वेब होस्टिंग खरीदना चाहते हो तो इस होस्टिंग को भूल जाओ या फिर आप कोई बड़ी वेब एप्लीकेशन बना रहे हो उसके लिए अच्छा खासा वेब सर्वर चाहिए तो आप इसे ट्राई कर सकते हैं

Advantages 

Low cost  अन्य  होस्टिंग के मुकाबले  

फुल कंट्रोल आपके पास होता है

आसानी से डाटा रिकवर और बैकअप लिया जा सकता है

Disadvantage

छोटे बिजनेस के लिए बहुत एक्सपेंसिव है

आईटी प्रोफेशनल्स की जरूरत पड़ सकती है

एक्स्ट्रा ट्रैवल कॉस्ट लग सकता है

Best for :  big enterprises जैसे की  healthcare, finance, government etc 

यह भी पढ़े : What is zero click searches in hindi | क्या है Zero Click Search ?

Web Hosting चुनने से पहले कुछ Tips

क्या आप नई वेबसाइट बनाने की सोच रहे हो तो आपने website hosting kya hai के बारे में तो बहुत सुना होगा और पढ़ा भी होगा लेकिन नीचे मैं कुछ खास टिप्स के बारे में बता रहा हूं जिसे आप कभी भी ignore मत करें अगर भविष्य में आप अच्छे वेब होस्टिंग चाहते हो तो नीचे दी गई बातों का विशेष ध्यान दें

1 Website Builder

दोस्तों वैसे तो आपको पता होगा की wordpress में फ्री वेबसाइट थीम्स की मदद से हम वेबसाइट बना सकते हैं लेकिन आपको अपने हिसाब से किसी वेबसाइट की थीम कस्टमाइज करनी है

तो वेब होस्टिंग सर्विस में वेबसाइट बिल्डर है या नहीं यह जरूर देख ले जिसकी मदद से आप आसानी से सिर्फ कुछ मिनट में ही आप अपनी वेबसाइट को डिजाइन कर सकते हैं जैसे कि hostinger  आपको यह सुविधा देता है

2 Bandwidth

जब आप की वेबसाइट पर कोई यूजर डाटा एक्सेस करता है जिसके रिस्पांस में आपका सर्वर उसे डाटा निकालकर भेजता है जिस की स्पीड bandwidth से मापी जाती है अगर आपकी website  की speed अच्छी है तो अपने यूजर्स को डेटा बहुत जल्दी मिलेगा जिससे यूजर सेटिस्फाई होगा

ये hosting company के ऊपर डिपेंड करता है के कितने bandwidth देना हैं अगर आपके वेबसाइट में प्रतिदिन 5000 से कम visitors आते हैं तो इसके बारे में चिंता करने की कोई जरूरत नहीं

3 Storage

इसके बारे में मुझे ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है क्योंकि आपके पास एक android mobile  तो होगा जहां पर जैसे इंटरनल स्टोरेज होता है वैसे ही वेबसाइट में स्टोरेज होते हैं जहां आप अपना डाटा को स्टोर कर सकते हैं अगर आप कोई ई-कॉमर्स साइट बनाना चाहते हो तो इसे एक बार जरूर देख लें कि स्टोरेज कितना मिल रहा है

4 Data Backup

यह सबसे जरूरी पार्ट है क्योंकि भविष्य में अगर आप की वेबसाइट पर एक साथ ज्यादा यूजर आने की वजह से website crash कर जाती है या किसी हैकिंग या आपकी कोई गलती साइट delete हो जाये तो आपको डेली backup  लेते रहना चाहिए एक बार यह सुविधा चेक कर ले कि कौन सी होस्टिंग प्रोवाइडर कंपनी बैकअप की फैसिलिटी दे रही है

5 Customer Services

A सपोर्ट : कोई भी web hosting लेने से पहले उसके कस्टमर सपोर्ट को एक बार जरूर देख ले क्योंकि कई बार हमें प्रॉब्लम आती है जिससे हमें कस्टमर सर्विस प्रोवाइडर से सॉल्यूशन लेना होता है इसके लिए देख ले कि उनकी कस्टमर सपोर्ट फैसिलिटी कैसी है क्या वह 24/7 सपोर्ट देते हैं

B प्राइस: यह सबसे खास मुद्दा है क्योंकि हमारे पास शुरुआत में इतने पैसे नहीं होते हैं जितने में हमें वेब होस्टिंग प्लस डोमेन दोनों खरीद सके इसके लिए आप यह जरूर देख ले कि वेबसाइट होस्टिंग के साथ फ्री डोमेन और अभी की  प्राइस क्या है और 1 साल बाद यह मुझे कितना चार्ज करेगा उसे देख ध्यान से देख ले

C सिक्योरिटी एंड एक्सेस: आपकी वेबसाइट और वेब होस्टिंग दोनों को सिक्योरिटी और एक्सेस जैसे महत्वपूर्ण फैसिलिटी जरूर चेक करे क्योंकि आप जैसे-जैसे वेबसाइट में काम करते जाओगे आपको यह नॉलेज मिलता जाएगा कि आपकी वेबसाइट की स्पीड कम है या ज्यादा जब आपको ही पोस्ट बना रहे होते हो तब वर्डप्रेस का डैशबोर्ड बहुत स्लो चलता है

Conclusion

दोस्तों आज आपने देखा कि Website hosting kya hai और कितने प्रकार के होते हैं यदि आपको हमारी यह आर्टिकल अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो वेबसाइट होस्टिंग खरीदना चाहते हैं

सभी वेब होस्टिंग अपनी जगह पर ठीक है लेकिन यह आपको डिसाइड करना है कि आप किस प्रकार की वेबसाइट बना रहे हो और भविष्य में आप के वेबसाइट पर कितना ट्रैफिक आ सकता है उसके बाद ही वेब होस्टिंग खरीदने की सोचे धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here